फ्लेविया एग्नेस

EverybodyWiki Bios & Wiki से
यहाँ जाएँ:भ्रमण, खोज

(

Christ University Hosur road Bangalore 4820.JPG यह सदस्य विकिपरियोजना क्राइस्ट विश्वविद्यालय का हिस्सा है।.

)

फ्लेविया एग्नेस एक भारतीय कानूनी विद्वान, लेखिका, और महिलाओं के अधिकारों की कार्यकर्ता और वकील है जो मुंबई में अभ्यास कर रही है। उन्हे वैवाहिक जीवन, तलाक और संपत्ति कानून में विशेषज्ञता हासिल है और अल्पसंख्यकों के विषयों और कानून, लिंग आदी पर कयी पत्रिकाओं जैसे सबाल्टर्न अध्ययन, आर्थिक और राजनीतिक साप्ताहिक, और मानुषी में दिखाई देते है। इनमें से कुछ लेख, लिखे और प्रकाशित किये गय है महिलाओं के आंदोलनों के संदर्भ में, घरेलू हिंसा और नारीवादी न्यायशास्त्र के मुद्दों पर कानून, और आदी के संदर्भ में। 1988 के बाद से, एग्नेस मुंबई उच्च न्यायालय में वकालत का अभ्यास कर रही है। घरेलू हिंसा के साथ अपने अनुभव ने उन्हे एक महिलाओं के अधिकारों के वकील बनने के लिए प्रेरित किया। वह कानून को बनाने और लागू करने पर सरकार को सलाह देती है और वर्तमान में वे महाराष्ट्र के महीलाओ और बाल विकास मंत्रालय की प्रमुख सलाहकार है। मधुश्री दत्ता के साथ साथ, वे "मजलिस" की सह-संस्थापक है। "मजलिस" एक अरबी शब्द है जिसका अर्थ "संघ" है। "मजलिस" एक कानूनी और सांस्कृतिक संघ या केंद्र है जिसका स्थपन महीलओ के अधीकारो के लिए अभियान के लिये किया गया था। मजलिस बेसहारा महिलाओ को उनके वैवाहिक अधिकार, बच्चे की हिरासत आदि के लिये कानूनी मदद कर रहा है। 1990 में स्थापना के बाद से, मजलिस 50,000 महिलाओं को कानूनी सेवाएं प्रदान कर चुका है और कयी ऐसे मुद्दों पर महिलाओं के लिए कानूनी प्रतिनिधित्व प्रदान करता है।

प्रारंभिक जीवन

फ्लेविया एग्नेस मुंबई में पैदा हुई लेकिन कादरी नामक एक छोटे से शहर में मंगलोर, कर्नाटक में अप्नी चाची के साथ रहते बडी हुई। उन्के सेकेंडरी स्कूल सर्टिफिकेट (एसएससी) की परीक्षा की पूर्व संध्या पर, उनकी चाची का निधन हो गया और एग्नेस वहाँ से अदन या एदन, यमन चली गयी और एक टाइपिस्ट के रूप में वहाँ काम किया। उनके पिता की मृत्यु के पश्चात उनके परिवार मंगलौर लौटना पडा। चार अन्य बहनों के साथ वे हमेशा लड़कीयो के स्कूल में ही शिक्षित हुई। वह 20 साल की थी, जब उनकी शादी उनसे 12 साल बड़े आदमी से हो गयी। वह आदमी उनहे शारीरिक रूप से पीडा देता था। यह उनकी आत्मकथा "मेरी कहानी ... टूटे हुए जीवन के पुनर्निर्माण की हमारी कहानी" का आधार है। अपने पति से अलग होने के लिए उनहे 14 साल लगे। इन १४ सालो में उन्होने अपने बच्चों की हिरासत ली, अपनी शिक्षा पुर्ण की और एक वकील बनी।

इस शादी से उनहे तीन बच्चे हुए, एक बेटा और दो बेटियाँ। बच्चो की हिरासत के लिए कई अदालती/कानुनी मामलों के बाद, एग्नेस को दो बेटियों की हिरासत मिल गयी, लेकिन उनके बेटे ने अपने पिता के साथ रहने का फैसला किया। उनकी तलाक की कार्यवाही में ज्यादा समय लगा। एक ईसाई के रूप में, एग्नेस 'ईसाई विवाह अधिनियम' के तहत 'क्रूरता के आधार पर तलाक' की हकदार नहीं थी और इसके कारण उनहे न्यायिक तौर पर अलग होने के लिए भरतीय न्ययालय में जाना पडा। तलाक के लिए कानूनी कार्यवाही की लंबाई से निराश होकर्, एग्नेस ने पूरी तरह से मामला सन्न 1986 में गिरा दिया। 90 के दशक में , उन्होने अपने उपनाम के रूप में उपकी माता का नाम 'एग्नेस' का उपयोग शुरू किया।

शिक्षा

उनकी शादी से पहले, एग्नेस ने केवल अपनी एसएससी परीक्षा पूरी की थी। महिलाओं के आंदोलन में एग्नेस 'अधिक से अधिक भागीदारी उसे, लाभकारी रोजगार पाने के लिए स्वतंत्र रूप से रहते हैं और अपने बच्चों की कस्टडी पाने के लिए आगे का अध्ययन करना चाहते बनाया है। नतीजतन, एग्नेस 1980 में गौरव के साथ समाजशास्त्र में आर्ट्स (बीए) के एक स्नातक श्रीमती नाथीबाई दामोदर थ्रैक्रसे महिला विश्वविद्यालय (एसएनडीटी) की प्रवेश परीक्षा दी और पूरा [6]

एग्नेस 1988 में एक एलएलबी पूरा करने के लिए पर चला गया और मुंबई उच्च न्यायालय में कानून का अभ्यास करने के लिए शुरू किया। वह बाद में [6] वह बाद में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस द्वारा प्रकाशित किया गया था, जो उसे थीसिस के लिए, 1997 में भारतीय राष्ट्रीय विधि विश्वविद्यालय, बंगलौर (एनएलएसआइयू) से एम.फिल किया था 1992 में मुंबई विश्वविद्यालय से उसे एलएलएम पूरा हो, वह काम किया कानून और लैंगिक समानता पर, इन महिलाओं के लिए क्या मतलब है, विशेष रूप से, जांच, विभिन्न धार्मिक समुदायों में व्यक्तिगत कानूनों की राजनीति पर देख रहे हैं।

उसके एम.फिल करने के बाद, एग्नेस एनएलएसआइयू में एक अतिथि संकाय बन गया। वह भी नेशनल लीगल स्टडीज की अकादमी और रिसर्च, हैदराबाद (एनएएलएसएआर) और जिंदल ग्लोबल लॉ स्कूल में विजिटिंग फैकल्टी के एक सदस्य है। उन्होंने कहा कि भारत में और विदेशों में कानूनी महत्व के मुद्दों पर अतिथि व्याख्यान और पैनल चर्चा के लिए विश्वविद्यालयों को बुलाया करने के लिए हो रहा है। वह भी चिकित्सा स्कूलों में पढ़ाया है।

This article "फ्लेविया एग्नेस" is from Wikipedia. The list of its authors can be seen in its historical.